काग्रेस नेता के 17 साल के भतीजे की नशे के ओवरडोज से मौत, ओवरडोज से औंधे मुंह गिरा, फिर नहीं उठा!

नशे से मौत की यह तस्वीर झकझोरने वाली है...। हर युवा को इससे सबक लेना चाहिए। कैसे यह नशा हमें बर्बादी की ओर ले जा रहा है। 17 वर्ष की उम्र बड़े सपने देखने की होती है। परिवार की उम्मीदों को पूरा करने की होती है, लेकिन युवाओं के यह घातक कदम न सिर्फ उम्मीदों को तोड़ रहे हैं बल्कि परिजनों को जीवन भर का दर्द दे रहे हैं।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : एक युवक (17) की इंजेक्शन में नशे की ओवरडोज के कारण मौत हो गई। रविवार को वह घर से स्कूटी लेकर निकला था और वापस नहीं लौटा। आदित्य की नशे की आदत का घर वालों को भी पता था, इसलिए किसी ने अधिक ध्यान नहीं दिया लेकिन जब वह सोमवार तक नहीं लौटा तो उसकी तलाश की गई। परिवार ने पुलिस में भी रिपोर्ट दर्ज करवाई। मंगलवार को लोगों ने एक युवक की मुंह के बल गिरी पड़ी लाश देखी तो पुलिस व आसपास के लोगों को जानकारी दी।

शव आदित्य का ही था और उसके पास ही नशे का सिरिंज पड़ा था। आदित्य के मामा कुलदीप कुमार ने बताया, नशा छुड़वाने के लिए उसे हिमाचल के एक रिहैब सेंटर में भर्ती करवाया गया था। 4 महीने वहां रहकर पिछले सप्ताह ही लौटा था। रविवार सुबह 8 बजे आदित्य घर से मां का मोबाइल और एक्टिवा लेकर बिना बताए चला गया था।

आदित्य का परिवार मूलरूप से नवांशहर के नूरपुरबेदी का रहने वाला है। उसके पिता अमेरिका में हैं और एक बड़ी बहन भी है। आदित्य पाठक उर्फ दमन नशे की दलदल में 13 साल की उम्र में आठवीं क्लास में ही आ गया था। परिवार का इकलौता बेटा आदित्य नवांशहर में पढ़ता था। नशे की इस लत ने उसका स्कूल छुड़वा दिया। पिता विश्वजीत पाठक अमेरिका में थे और आदित्य की संगत बदले इसलिए परिवार वाले नवांशहर से बलाचौर में ननिहाल शहर में शिफ्ट हो गए।

उन्होंने आदित्य को नशा छुड़ाओ केंद्र में भी भर्ती करवाया था। कुछ महीनों बाद वह घर लौटा लेकिन फिर नशा करने लगा। चार दिन पहले ही अंब (हिमाचल) के एक नशा छुड़ाओ केंद्र से वापस घर लौटा था। दो-तीन दिन सब ठीक-ठाक रहा और परिवार को लगा कि अब आदित्य ठीक हो गया है लेकिन रविवार सुबह करीब 8 बजे वह घर से मोबाइल व स्कूटी लेकर निकला पर वापस नहीं लौटा। परिवार को मंगलवार उसकी लाश मिली।

कांग्रेस नेता संदीप पाठक उर्फ संजू ने अपने भतीजे आदित्य की मौत के बाद सोशल मीडिया पर कैप्टन अमरेंद्र सिंह को नशे के खिलाफ एक्शन की बात कही है। उन्होंने कहा, उनके परिवार में अंडा व शराब तक नहीं आया था और आज हालात ये हो गए हैं कि उनके परिवार का बेटा नशे के कारण मारा गया है। हमसे हमारा भतीजा नहीं बचाया जा सका, जिसका कारण सिर्फ और सिर्फ पंजाब पुलिस के करप्ट अफसर व नशा बिकवाने व बेचने वाले अफसर हैं। इनपर सख्त कार्रवाई की जाने की जरूरत है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com