खडीसेरी में आग की भेंट चढ़ा देवता बंशीरा का मंदिर

खडीसेरी में आग की भेंट चढ़ा देवता बंशीरा का मंदिर
(एन एल एन मीडिया-न्यूज़ लाइव नाउ) एक ओर जहां तपती गर्मी से पहाड़ जुलस रहे है वहीं दूसरी ओर वनों में भड़की आग के कारण वन संपदा के साथ साथ वनों के जीवों की हत्या हो रही है। ऐसे ही शनिवार रात को विकास खंड कुल्लू की ग्राम पंचायत रोट के खड़ी सेरी में शरारती तत्वों दुआरा जंगल मे आग लगने से जंगल व बगीचे सहित देवता बंशीरा का मंदिर जल कर स्वाह हो गया।
गौर है कि भुन्तर के साथ रोट पंचायत के खडीसेरी गांव में बीती रात कुछ शरारती तत्वों ने आग लगा दी। आग धीरे धीरे बढ़ती गई और जंगल को भड़क गई। जिसमे पेडों के साथ कई जीव ओर पक्षियों के आशियाने जल गये। इस बार इस आग ने धर्मिक स्थल देवता बनशिरा का मंदिर भी जला कर रखा कर दिया। मंदिर जलने की खबर सुन कर लोग जब मौके पर पहुंचे तब तक सब कोयले ओर राख में तबदील हो गया था।वहीं इस आग से खडीसेरी निवासी बुधराम व खेमचन्द के बगीचे के सेंकडो पेड़ भी आग के भेंट चढ़े। देवता के पुजारी बुधराम ने बताया कि  बगीचे के साथ उनके देवता बंशीरा देवता का लकड़ी का मंदिर था वह भी जल कर स्वाह हो गया । मन्दिर में रखा देवता मोहरे ओर पूजा करने का सामान घण्टी, धदच्छ,शंख जल कर राख हो गए।उन्होंने कहा कि देवता का मंदिर आग की भेंट चढ़ने से उन्हें दुख हुआ है ओर उनकी आस्था को चोट पहुँची है। गांव वासियों ने सरकार ववन विभाग से मांग की है कि देवता बन शिरा के मंदिर निर्माण के लिए राहत राशि देने की कृपा करें ताकि वह मंदिर का निर्माण पुनः कर सकें और वगिचें में हुए पेड़ो के नुकसान का भी मुआबजा दिया जावे। चैतन्या वन रक्षक मोके पर पहुंची और पूरी खडीसेरी में आग से हुए नुकसान का जायज़ा लिया।
ओर लोगों से अपील की कि वह ऐसी आगजनी की घटनाओं को रोकने के लिए अपना योगदान दे ताकि भविष्य में किसी भी तरह से कोई आगजनी से नुकसान न हो।  उत्तम चंद ओर देवता गुर खेख राम व पूरे गांव वासियों  ने वन विभग से मांग की है कि मंदिर पुनर्निर्माण के लिए वन विभाग लकडियों का योगदान दें।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com