कृषि क्षेत्र के शानदार आंकड़े : देशभर में खाद्यान्न की 28 करोड़ टन पैदावार

कृषि क्षेत्र से शानदार आंकड़े सामने आ रहे हैं। देश में खाद्यान्न की रिकॉर्ड 28 करोड़ टन पैदावार हुई है, जिसमें चावल व गेहूं के साथ दलहन फसलों की भूमिका अहम रही है

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : चुनावी साल में कृषि क्षेत्र से शानदार आंकड़े सामने आ रहे हैं। देश में खाद्यान्न की रिकॉर्ड 28 करोड़ टन पैदावार हुई है, जिसमें चावल व गेहूं के साथ दलहन फसलों की भूमिका अहम रही है। सरकारी और समर्थन मूल्य के प्रोत्साहन से मोटे अनाज की पैदावार भी बंपर हुई है। कृषि मंत्रालय ने बुधवार को चालू फसल वर्ष 2017-18 में फसलों की पैदावार का तीसरा अग्रिम अनुमान जारी किया है।बीते साल मानसून की अच्छी बारिश और खेतों में नमी के साथ सरकार की नीतिगत तैयारियों के चलते कृषि क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रदर्शन हुआ है। चावल व गेहूं जैसी प्रमुख फसलों का उत्पादन सर्वाधिक रहा है। देश में खाद्यान्न की कुल पैदावार के अब तक के सभी अनुमान पीछे छूट गए और उत्पादन बढ़कर 28 करोड़ टन तक पहुंच गया। इसमें चावल की हिस्सेदारी 11.15 करोड़ टन और गेहूं की 9.86 करोड़ टन है। मोटे अनाज का उत्पादन 4.49 करोड़ टन रहा है, जबकि मक्का की रिकॉर्ड 2.69 करोड़ टन पैदावार हुई है। केंद्र में राजग की सरकार के गठन के समय देश में दालों की आयात निर्भरता बढ़ती जा रही थी। इसे कम करने की दिशा में किए गए प्रयास का परिणाम चालू फसल वर्ष के तीसरे अग्रिम अनुमान में दिखाई देने लगा है।दलहन फसलों की उत्पादकता बढ़ने से कुल पैदावार अब तक के सर्वाधिक 2.45 करोड़ टन के स्तर पहुंच गई है। इससे आयात की संभावनाओं पर विराम लग सकता है। चने की पैदावार 1.12 करोड़ टन, अरहर की 42 लाख टन और उड़द की 32 लाख टन हुई है। दलहन की बंपर पैदावार के अनुमान के चलते ही इस सीजन में दालों के आयात में भारी गिरावट दर्ज की गई है। लगभग लाख टन दलहन का कम आयात हुआ है, जिससे 9,775 करोड़ रुपये की सीधी बचत हुई है।तिलहन की पैदावार में उत्साहजनक नतीजे नहीं आए हैं। देश में खाद्य तेलों के सस्ते आयात से घरेलू किसानों के लिए तिलहन की खेती घाटे का सौदा बन चुकी है। इसके चलते तिलहन की पैदावार में गिरावट का रुख रहा है। पिछले साल कुल पैदावार 3.28 करोड़ टन रही। तीसरे अग्रिम अनुमान में यह 2.64 करोड़ टन हो गई है। लगभग 64 लाख टन तिलहन की कम पैदावार का अनुमान है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com