सांसद श्री वीरेंद्र कश्यप के द्वारा आज बचत भवन शिमला में 27 विकास योजनाओं के कार्य का हुआ निरीक्षण

वीरेंद्र कश्यप ने जिला में सभी योजनाओं के तहत विकास कार्य को समयबद्ध पूर्ण करने के निर्देश भी दिये।

(एनएलएन मीडिया न्यूज़ लाइव नाउ): सांसद श्री वीरेंद्र कश्यप ने आज बचत भवन शिमला में दिशा कार्यक्रम के तहत केंद्र सरकार द्वारा जिला शिमला में कार्यान्वित की जा रही 27 विकास योजनाओं के कार्य की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं के तहत जिला में सराहनीय कार्य किया जा रहा है। श्री वीरेंद्र कश्यप ने जिला में सभी योजनाओं के तहत विकास कार्य को समयबद्ध पूर्ण करने के निर्देश भी दिये।उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत प्रदान की जा रही धनराशि का सही उपयोग सुनिश्चित किया जाए, ताकि आम आदमी को उसका लाभ मिल सके। उन्होंने आम लोगों, अधिकारियों और कर्मचारी से दिशा कार्यक्रम के तहत लागू की जा रही विभिन्न योजनाओं में और सुधार लाने के लिए सुझाव देने का आग्रह भी किया।श्री वीरेंद्र कश्यप ने कहा कि पंचायत सचिवों द्वारा किये जा रहे विभिन्न कार्यों में और दक्षता लाई जानी चाहिए तथा उनकी जवाबदेही भी सुनिश्चित की जानी चाहिए।


सांसद ने कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के तहत जिला में वर्ष 2017-2018 के दौरान 19 लाख दो हजार, 140 कार्य दिवस का लक्ष्य प्राप्त किया गया है तथा मनरेगा के तहत 47 हजार 554 कार्य पूर्ण कर लिये गये हैं तथा नौ हजार 592 विकास कार्य प्रगति पर हैं। जिला के सभी विकास खंडों में विकास कार्यों की जियो टैगिंग का 91.11 प्रतिशत कार्य पूर्ण कर लिया गया है।जिला में डिजिटल शिक्षा का कार्य भी प्रगति पर है।इसके तहत छह हजार 824 छात्रों का पंजीकरण किया गया, जिसमें से छह हजार 821 ने प्रशिक्षण पूर्ण किया है तथा दो हजार 239 उम्मीदवारों को प्रमाणित भी किया जा चुका है।डिजिटल फाईनांस फाॅर रूरल इंडिया क्रिएटिंग अवेयरनेस के तहत चार हजार 800 व्यापारियों का पंजीकरण किया गया है तथा 9200 से लाभार्थी पंजीकृत किये गये हैं।विधायक श्री बलवीर वर्मा ने कहा कि ग्राम पंचायतों में विकास कार्यों के लिए खर्च किये जाने वाले धन की समय-समय पर समीक्षा की जानी चाहिए और यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि उसका सदुपयोग किया गया है या नहीं।


पंचायतों में विकास कार्यों में पारदर्शिता के लिए व्यवस्था बनाई जानी चाहिए और पंचायत सचिवों की कार्य प्रणाली पर नियंत्रण के लिए भी प्रयास किये जाने चाहिए।अतिरिक्त उपायुक्त शिमला श्रीमती देवा श्वेता बनिक ने जिला में विभिन्न विकास योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की। परियोजना अधिकारी डीआरडीए श्री सुरेश सिंघा ने कार्यवाही का संचालन किया।बैठक में विधायक श्री बलवीर वर्मा, प्रधान ग्राम पंचायत थड़ी श्रीमती आशा कश्यप, अतिरिक्त उपायुक्त श्रीमती देवा श्वेता बनिक, परियोजना अधिकारी डीआरडीए श्री सुरेश सिंघा, नगर निगम शिमला, गैर सरकारी सदस्य और विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com