रहस्य: चाबी नहीं मंत्रों से खुलता है इस मंदिर का दरवाजा।

इसकी देश के वैष्णव मंदिरों में खास गिनती होती है।

(एनएलएन मीडिया-न्यूज़ लाइव नाऊ) केरल राज्य अपने प्राकृतिक सौंदर्य के लिए काफी मशहूर है। वहीं तिरुवनंतपुरम में स्थित पद्मनाभ स्वामी मंदिर भी दुनिया में काफी प्रसिद्ध है। दरअसल दुनिया के कुछ सबसे रहस्यमय जगहों में इसकी गिनती होती है। यहां देश-विदेश से लोग दर्शन के लिए आते हैं। आगे की स्लाइड्स में जानें मंदिर से जुड़ी रोचक जानकारियां। दिलचस्प बात है कि भगवान विष्णु को समर्पित इस मंदिर में सिर्फ हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले ही जा सकते हैं और यहां प्रवेश के लिए एक खास तरह के वस्त्र (ड्रेस कोड) को धारण करना जरूरी होता है। इसके अलावा अपार संपत्ति के चलते इस मंदिर के दरवाजे को सुप्रीम कोर्ट के समर्थन से खोला जा चुका है। जिसमें इसके छह दरवाजों को खोलकर 1,32,000 करोड़ की संपत्ति मिल चुकी है। लेकिन सातवें द्वार को अभी भी खोला नहीं जा सका है। मंदिर के गर्भगृह में भगवान विष्णु की एक भव्य मूर्ति विराजमान है। इस कारण से इसकी देश के वैष्णव मंदिरों में खास गिनती होती है। मगर विश्व का सबसे अमीर ये मंदिर अपनेआप में काफी रहस्यमयी भी है। यहां एक दरवाजा है जिसे माना जाता है कि कोई सिद्ध पुरुष ही खोल सकता है, लेकिन आज तक इसे कोई नहीं खोल सका है। वहीं ऐसी मान्यता है कि दरवाजा भगवान तक जाता है। मगर इसका रहस्य आज तक उजागर नहीं पाया। ऐसा कहा जाता है कि इस मंदिर के खजाने में दो लाख करोड़ का सोना है। मगर इतिहासकारों के अनुसार, असल में इसकी अनुमानित राशि इससे कहीं दस गुना ज्यादा होगी। इस खजाने में सोने-चांदी के महंगे चेन, हीरा, पन्ना, रूबी, दूसरे कीमती पत्थर, सोने की मूर्तियां, रूबी जैसी कई बेशकीमती चीजें हैं, जिनकी असली कीमत आंकना बेहद मुश्किल है। ऐसी मान्यता है कि 18 वीं सदी में त्रावणकोर के राजाओं ने मंदिर में पद्मनाभ स्वामी की मूर्ति की स्थापना करवाई थी, जबकि इतिहासकारों की मानें तो इसकी कहीं कोई ठोस जानकारी उपलब्ध नहीं है। ऐसे इस रहस्यमयी मंदिर की 5000 साल पहले कलियुग के पहले दिन स्थापित होने की कहानी चली आ रही है। इसके साथ ही त्रावणकोर राजघराने ने पूरी तरह से भगवान को अपना जीवन और संपत्ति सौंप दी है। हालांकि फिलहाल मंदिर की देख-रेख का कार्य शाही परिवार के अधीन एक प्राइवेट ट्रस्ट संभाल रहा है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com