बिहार : चारा घोटाले पर आज आएगा फैसला, लालू सहित ये हैं आरोपी..

चारा घोटाले के एक अन्य मामले आरसी-64 (देवघर कोषागार से हुई अवैध निकासी) में शनिवार को फैसला आयेगा. सीबीआई के विशेष न्यायाधीश शिवपाल सिंह की अदालत फैसला सुनायेगी. मामले में अंतिम सुनवाई 13 दिसंबर को हुई थी. इस मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद व डॉ जगन्नाथ मिश्र समेत कुल 22 आरोपित ट्रायल का सामना कर रहे हैं.

लालू प्रसाद और जगन्नाथ मिश्र शुक्रवार शाम को रांची पहुंचे. लालू के साथ उनके पुत्र तेजस्वी यादव भी रांची आये हैं. लालू प्रसाद एयरपोर्ट से सीधे  स्टेशन रोड स्थित होटल  बीएनआर चाणक्य पहुंचे.



स्पीडी ट्रायल हुआ : चारा घोटाले में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर आठ मई को स्पीडी ट्रायल शुरू हुआ था. सुप्रीम कोर्ट ने नौ माह में मामलों का निष्पादन करने को कहा था. इसके बाद सीबीआई की अदालत ने मामले के आरोपित राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद, जगन्नाथ मिश्र सहित अन्य आरोपितों को समन जारी कर अदालत में हाजिर होने का निर्देश दिया था. मई के बाद से मामले की सुनवाई तेज की गयी.
हर महीने 12 से 15 दिन सुनवाई की गयी.  बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद सहित अन्य आरोपित हर महीने निर्धारित तारीखों पर अदालत में पहुंचे. लालू प्रसाद की अोर से मामले में अपने बचाव में 15 गवाह पेश किये गये हैं. इसमें 34 आरोपितों के खिलाफ  अदालत में  चार्जशीट दाखिल किया गया था. कई आरोपितों का ट्रायल के दौरान  निधन हो चुका है.
वहीं, दो लोग सरकारी गवाह बन गये हैं. पीके जायसवाल व  सुशील झा ने  निर्णय पूर्व दोष स्वीकार किया था. अब 21 साल बाद चारा घोटाले  के इस चर्चित  48वें मामले में अब फैसला सुनाया जायेगा.
तेजस्वी भी लालू के साथ गये रांची
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद अपने आवास पर पार्टी के सिपहसालारों व पार्टी के नेताओं के साथ शुक्रवार को राय-मशविरा कर दोपहर में रांची के लिए रवाना हो गये. उनके पुत्र व विरोधी दल के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव भी उनके साथ रांची गये हैं. पटना से रवाना होने के पहले राजद सुप्रीमो के आवास पर पार्टी के नेताओं का जमावड़ा  लग गया था. पूर्व मंत्री जगदानंद सिंह, पार्टी महासचिव शिवानंद तिवारी,भाई वीरेंद्र, ललित कुमार यादव, शक्ति सिंह यादव, एज्या यादव, समीर कुमार महासेठ, अख्तरूल इस्लाम शाहीन व रामानुज प्रसाद सिंह सहित दर्जनों की संख्या में पार्टी के विधायक व पदाधिकारी मौजूद थे. रांची निकलने के पहले पटना में उन्होंने पत्रकारों से बातचीत भी नहीं की. आवास से निकलने के बाद वह सीधे हवाई अड़्डा पहुंचे. वहां पर पार्टी के नेताओं से मुलाकात की.
क्या है आरसी 64ए/96 
 
यह मामला देवघर कोषागार से 84 .54 लाख रुपये की अवैध  निकासी से संबंधित है. इसमेें 1994-95 के बीच पशुओं के चारा व दवाओं के नाम यह फर्जीवाड़ा किया गया था.
आरसी- 20 केस में लालू को हो चुकी है पांच साल की सजा
चारा घोटाले में लालू प्रसाद पर कुछ छह केस चल रहे हैं. इनमें से एकआरसी- 20 (चाईबासा ट्रेजरी से 37.5 करोड़ की निकासी) मामले में सीबीआई कोर्ट ने तीन अक्तूबर , 2013 को उन्हें पांच साल की सजा सुनायी थी व Rs 25 लाख का जुर्माना लगाया था. पर उसी साल दिसंबर में सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी. उन्होंने इसके खिलाफ अपील की है.
कौन-कौन हैं आरोपित
06 राजनेता
लालू प्रसाद, जगन्नाथ मिश्र, जगदीश शर्मा, विद्यासागर निषाद, ध्रुव भगत व आरके राणा




10 अधिकारी
फूलचंद सिंह, बेक जूलियस, महेश प्रसाद, एसी चौधरी, कृष्ण कुमार प्रसाद, सुबीर भट्टाचार्य
10 सप्लायर और ट्रांसपोर्टर 
त्रिपुरारि मोहन, सुशील सिंह, सुनील सिंह, राजा राम जोशी, सरस्वती चंद्रा, साधना सिंह, गोपीनाथ दास, संजय अग्रवाल, ज्योति झा व सुनील गांधी

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com