फारूख अब्दुल्ला को जम्मू के लाल चौक पर थप्पड़ मारने का ख्वाब: सूरजपाल अम्मू

गुड़गांव. पद्मावती फिल्म की रिलीज को लेकर लगातार विवादित बयान दे रहे हरियाणा बीजेपी के चीफ मीडिया कॉर्डिनेटर सूरजपाल अम्मू ने बुधवार को पद से इस्तीफा दे दिया। बाद में उन्होंने कहा कि अब उनका ख्वाब फारूख अब्दुल्ला को जम्मू के लाल चौक पर थप्पड़ मारने का है। वे वहां मिलें। बता दें कि फारूख अब्दुल्ला ने हाल ही केंद्र सरकार को लाल चौक पर तिरंगा फहराने की चुनौती दी थी। अम्मू ने दीपिका पादुकोण और संजय लीला भंसाली का सिर काटने पर 10 करोड़ रुपए देने का एलान किया था।

अम्मू ने वाॅट्सएेप के जरिए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला को इस्तीफा भेजा। पार्टी ने उनसे जवाब मांगा था। चर्चा यह भी है कि सूरजपाल अम्मू और करणी सेना को वक्त देने के बाद भी सीएम मनोहरलाल खट्टर उनसे नहीं मिले, जिसकी वजह से नाराज होकर उन्होंने इस्तीफा दिया है। अम्मू ने कहा, “मैं भारी मन से इस्तीफा दिया। मुझे हरियाणा के सीएम के व्यवहार से तकलीफ हुई। मैंने इतना अकड़वाला बीजेपी का कोई सीएम नहीं देखा, जो पार्टी के कार्यकर्ताओं और कम्युनिटी के रिप्रेजेंटेटिव्स की इज्जत न करे।”  उन्होंने कहा, “अब मेरा ख्वाब है कि फारूख अब्दुल्ला को लाल चौक पर चांटा मारूं। मैं चुनौती देता हूं कि वे मुझसे वहां मिलें।”

मंगलवार को दिल्ली में राजपूत करणी सेना और मनोहरलाल खट्टर के बीच मुलाकात होनी थी, लेकिन यह नहीं हो पाई. करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष भवानी सिंह, संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष और अन्य 22 रिप्रेजेंटेटिव तय वक्त पर पहुंच गए, लेकिन सीएम पिछले दरवाजे से निकल गए। इस पर अम्मू ने कहा कि सीएम ने राजपूत बिरादरी का अपमान किया है और राजपूत बिरादरी इसको सहन नहीं करेगी।

उन्होंने वॉर्निंग दी कि आने वाले दिनों में हरियाणा प्रदेश सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। उन्होंने संघ से मामले में दखल देने को कहा।

इससे पहले ममता बनर्जी पर दिया था विवादित बयान
सीएम ममता बनर्जी ने कहा था कि पश्चिम बंगाल ‘पद्मावती’ और उसके कलाकारों का स्वागत करने के लिए तैयार है। हम इसके लिए खास इंतजाम करेंगे। बंगाल ऐसा करके बहुत खुश होगा। इस पर पलटवार करते हुए अम्मू ने कहा था, ”राक्षसी प्रवृत्ति की जो महिलाएं होती हैं, जैसे शूर्पणखा थी। उसका इलाज लक्ष्मण ने नाक काटकर किया था। ममता बनर्जी इस बात को न भूलें।”

इससे पहले सूरजपाल ने कहा था कि, ”हम हिन्दुस्तान के सभी सिनेमाघरों में स्वच्छता अभियान चलाएंगे। क्षत्रिय समाज और देश का नौजवान एक-एक स्क्रीन को आग लगाने की ताकत रखता है।”

पिछले दिनों अखिल भारतीय क्षत्रिय राजपूत महासभा के सम्मेलन में सूरजपाल ने कहा, ”फिल्म भारतीय संस्‍कृति और नारी शक्ति का अपमान है, इसे किसी कीमत पर सहन नहीं करेंगे। पद्मावती में राजपूत राजाओं और वीरांगनाओं की कुर्बानियों का अपमान हुआ है।” साथ ही उन्होंने कहा था कि पद्मावती पर रोक लगाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपनी ताकत का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर जरूरत पड़ी तो वह पार्टी छोड़ने के लिए तैयार हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com