कपिल मिश्रा ने पहले की गंभीर आरोपों की बौछार, अब बताया क्या होगा अरविंद केजरीवाल का अगला ‘प्लान’

0 191

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) के निलंबित नेता कपिल मिश्रा ने रविवार को कई गंभीर आरोप लगाने के बाद सोमवार को ट्वीट कर बताया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इसके बचाव में क्या करेंगे. हालांकि कपिल मिश्रा ने ट्वीट में अरविंद केजरीवाल या आम आदमी पार्टी का नाम नहीं लिया है. उन्होंने इशारे में अपनी बात कही है. कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया है, ‘पहले वह चुप्पी साधेंगे, फिर ध्यान भटकाने के लिए तमाशे करेंगे, फिर झूठी फोटो वीडियो वायरल करेंगे, सच से बच कर दुबकेंगे, फिर वे जेल जाएंगे.’ छह दिन से अनशन पर बैठे दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा का यह ट्वीट राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कही बातों से प्रेरित है. कपिल ने अपने ट्वीट के साथ बापू की एक तस्वीर भी पोस्ट की है, जिसपर लिखा है, ‘पहले वे नजरअंदाज करेंगे, फिर वे तुमपर हसेंगे, इसके बाद वे लड़ेंगे, तब तुम जीत जाओगे.’

‘आप ने चुनाव आयोग को चंदे की गलत जानकारी दी’

रविवार को कपिल मिश्रा ने प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर आम आदमी पार्टी पर चंदों के बारे में पर निर्वाचन आयोग (ईसी) से झूठ बोलने और धनशोधन के रविवार को आरोप लगाए. मिश्रा रविवार सुबह अपने आवास पर एक संवाददाता सम्मेलन में आप की वित्तीय अनियमितताओं का खुलासा करने के दौरान, पांच दिन से भूख हड़ताल पर बैठे मिश्रा बेहोश हो गए. इसके तत्काल बाद उन्हें राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया.

बीजेपी के इशारे पर ऐसा कर रहे हैं कपिल मिश्रा: आप

वहीं, आप ने मिश्रा के आरोपों को बीजेपी की साजिश करार देते हुए कहा है कि भाजपा आप के बर्खास्त मंत्री के कंधे पर रखकर बंदूक चला रही है.

मिश्रा ने आरोप लगाया है कि वित्त वर्ष 2013-14 में आप के बैंक खातों में 45 करोड़ रुपये से भी ज्यादा थे, जबकि पार्टी ने ईसी को करीब नौ करोड़ रुपये की जानकारी दी.

मिश्रा ने कहा, “तीन साल पहले जब ईसी ने आप को नोटिस भेजकर घोषित नौ करोड़ रुपये चंदों का ब्योरा मांगा था, तब पार्टी ने स्पष्टीकरण दिया था कि पार्टी फंड में 30 करोड़ रुपये हैं.”

उन्होंने कहा, “उन 30 करोड़ रुपयों में से पार्टी ने ईसी को 15 करोड़ रुपयों का कोई ब्योरा नहीं दिया.”

मिश्रा ने आरोप लगाया कि अगले वित्त वर्ष 2014-15 में पार्टी के पास 65 करोड़ रुपये थे, लेकिन उसने सिर्फ 32 करोड़ रुपयों का खुलासा किया. वहीं पार्टी की वेबसाइट पर सिर्फ 27 करोड़ रुपये की जानकारी दी गई.

मिश्रा ने कहा, “मेरे पास पार्टी के वित्तीय लेनदेन से जुड़े सारे दस्तावेज हैं, जिसमें खाते में 461 फर्जी लेनदेन भी शामिल हैं.”

आप ने मिश्रा के सभी आरोपों का खंडन करते हुए कहा है कि पार्टी अपना हिसाब-किताब तैयार करने में सारे नियमों का पालन करती है.

आप नेता संजय सिंह ने कहा, “आप की मान्यता खत्म करने और उसका पंजीकरण रद्द कराने की साजिश है यह, जिसमें भाजपा का पूरा हाथ है. कपिल मिश्रा जो भी कह रहे हैं, भाजपा उसी को दोहरा रही है. भाजपा जो कह रही है, वही कपिल मिश्रा दोहरा रहे हैं.”

संजय सिंह ने कहा कि आप को खत्म करने और केजरीवाल को बदनाम करने में केंद्र सरकार और भाजपा पूरे जोरशोर से लगी हुई है.

आप पर लगाया काले धन को सफेद करने का आरोप

इससे पहले, मिश्रा ने यह भी आरोप लगाया है कि 2013 से ही आप विदेश यात्राओं के जरिए अपना काला धन सफेद करने में लगी हुई है.

उन्होंने कहा कि आप के वरिष्ठ नेताओं – दुर्गेश पाठक, आशीष खेतान, सत्येंद्र जैन और राघव चड्ढा – की विदेश यात्राओं का खर्च इसी काले धन से निकाला जाता रहा है.

पहले जलमंत्री पद से बर्खास्त, फिर पार्टी से निलंबित किए गए मिश्रा छह मई से आप के खिलाफ भूख हड़ताल पर हैं.

इससे पहले, मिश्रा दावा कर चुके हैं कि उन्होंने केजरीवाल को दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के हाथों दो करोड़ रुपये लेते देखा है.

मिश्रा ने कहा है कि वह आप और आप नेताओं के सारे भ्रष्टाचारों के सबूत जांच एजेंसियों के सामने रखेंगे.

रविवार को मिश्रा ने पत्रकारों को सबूत के तौर पर एक चेक दिखाया. हालांकि इसके ठीक बाद वह बेहोश हो गए और उन्हें अस्पताल ले जाया गया.

राम मनोहर लोहिया अस्पताल में ड्यूटी पर तैनात एक चिकित्सक ने कहा कि कपिल मिश्रा को आपातकालीन विभाग से रिकवरी कक्ष में स्थानांतरित कर दिया गया है, जहां उनकी स्थिति पर नजर रखी जा रही है.

चिकित्सक ने आईएएनएस से कहा, “कपिल मिश्रा को आपातकालीन विभाग में भर्ती कराए जाने के पांच मिनट बाद रिकवरी कक्ष में स्थानांतरित कर दिया गया. उनकी हालत स्थिर है. हम उन्हें देख रहे हैं.”

वहीं संजय सिंह ने मिश्रा की ओर से दिखाए गए चेक को फर्जी बताया और चेक के असली होने पर संदेह व्यक्त किया.

उन्होंने कहा, “यह तो कोई भी कर सकता है. यहां तक कि मैं भी भाजपा के नाम पर 70 करोड़ रुपये का ऐसा चेक तैयार कर सकता हूं.”

संजय ने कहा कि भाजपा और कांग्रेस ने अपने चंदों की 70 से 80 फीसदी राशि का कभी खुलासा नहीं किया.

उन्होंने कहा, “भाजपा वही पार्टी है, जिसके अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण रक्षा सौदे में रिश्वत लेते कैमरे में कैद हुए थे. भाजपा ने भ्रष्टाचार के आरोप में निलंबित किए गए कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा को फिर से पार्टी में शामिल कर लिया. मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले में 54 लोगों की मौत के बाद भी भाजपा शांत है.”

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Bitnami