सेजल शाह जल्द दिखेंगी नए अवतार में

0 88

मुंबई:
‘सेजल शाह’ आज इस नाम और चर्चित चहरे को जानने वालों की एक लम्बी कतार है। टीवी स्क्रीन और थिएटर जगत ने ‘सेजल शाह’ को लोगों के दिलों तक पहुंचा दिया है। इनकी प्रसिद्धि के पीछे का सफर भी बहुत संघर्षपूर्ण रहा है। बॉलीवुड के मायावी संसार तक पहुँचने की यात्रा और इनके जीवन के कुछ पहलुओं पर ‘न्यूज़ लाइव नाऊ’ नें इनसे बात की। ‘सेजल शाह’ एक बेहतरीन ‘भरत नाट्यम’ ‘नृत्यांगना भी है। इन्होंने 10 वर्षों से भी अधिक ‘भरत नाट्यम’ के अभ्यास व कई कार्यक्रम किये हैं। इनके नृत्य और अभिनय के प्रति इनके लगाव ने ही आज इनको ऊंचाइयों पर पहुँचाया है।

 

‘सेजल शाह’ का जन्म सिंगापुर में हुआ। इनके पिता का ‘सिंगापुर’ में ही ‘इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट’ का बिज़नेस था। ये 4 बहने और एक भाई हैं। जब ‘सेजल शाह’ छः वर्ष की थी तो उनके नाना गंभीर बीमार हो गए थे। तो उनको देखने के लिए उनके पिता जी के अतिरिक्त सभी सदस्य भारत आ गए। बाद में इनकी माता जी वापिस विदेश जाने को राज़ी नहीं हुई। इस कारण सभी भारत में ही रुक गए। कुछ समय के बाद ‘सेजल शाह’ की माँ ने साउथ मुंबई में अपना घर ले लिया। दो वर्षों के बाद इनके पिता जी भी अपने परिवार के पास भारत लौट आये।

 

बचपन में ‘सेजल शाह’ को प्यार से ‘टीनू’ के नाम से बुलाया जाता था। इनकी प्रारंभिक पढाई मुंबई में ही हुई। इनको बचपन से ही नृत्य और अभिनय में गहरी रुचि रही है। ‘सेजल शाह’ को अभिनेत्री ‘हेलेन’ का डांस बेहद पसंद था और बचपन में वो उनकी तरह ही डांस किया करती थीं। स्कूल और कॉलेज के दौरान उन्हें जब भी मौक़ा मिलता वो सभी कार्यक्रमों में बढ़-चढ़ कर भाग लेती थी। ‘सेजल शाह’ के पिता इनको डाक्टर बनाना चाहते थे लेकिन इनकी रूचि केवल डांस और एक्टिंग में ही थी। ‘सेजल शाह’ बचपन से ही मिलनसार और लोगों के बीच रहने वाली खुश मिज़ाज़ लड़की थीं। उनके पिता भी घरेलु कार्यक्रमों में उनको ‘हेलेन डांस’ करने के लिए प्रेरित करते थे।

 

‘सेजल शाह’ एक पारम्परिक ‘जैन’ परिवार से सम्बन्ध रखती हैं। इसलिए डांस और एक्टिंग के क्षेत्र में जाना इनके लिए कम चुनौती भरा नहीं था। कॉलेज के दिनों में वो अपनी सहेलियों के साथ ‘पार्ट टाइम’ एक ‘बुटीक’ में काम करती थीं। उसी दौरान उनकी सहेलियों की दो बहनें वहां उनसे मिलने अक्सर आती-जाती थीं। ये दोनों बहनें ‘मॉडलिंग फिल्ड’ से थीं और ‘एक्टिंग फिल्ड’ में हाथ आजमा रहीं थीं। एक दिन उनहोंने ‘सेजल शाह’ को भी बच्चों की एक फिल्म में काम करने का ऑफर दिया। उस वर्ष ‘चिल्ड्रनस फिल्म फेस्टिबल’ चल रहा था और ‘फिल्म डिवीजन’ ‘चिल्ड्रन्स फिल्म’ बना रहे थे। जो कि इस फेस्टिवल में दिखाई जानी थी। जैसे ही ‘सेजल शाह’ को ये अवसर मिला, वो बहुत खुश हुई। क्योंकि वो ऐसे ही किसी मौके की तलाश कर रही थीं।

 

उनहोंने तुरंत हाँ कर दी और एक घंटे की इस मूवी में अपना पहला अभिनय किया। यहीं से ‘सेजल शाह’ की ऐसी शुरुआत हुई कि फ़िर उनहोंने पीछे मुड़ कर नहीं देखा। इसके साथ ही उनको उनके एक सहयोगी ने ‘पृथ्वी थियेटर’ में ‘हिंदी प्ले’ करने का भी ‘ऑफर’ दिया। इस तरह ‘थियेटर जगत’ में भी ‘सेजल शाह’ को अपनी पहचान बनाने का अवसर मिला।पारिवारिक असहमति के बावजूद भी वो इस क्षेत्र में बनी रहीं और ‘गुजराती भाषा में थियेटर’ करने के बाद वो इसी क्षेत्र को समर्पित होती चली गईं।मुंबई में ही एक थियेटर कार्यक्रम के दौरान इनकी मुलाक़ात ‘मुनि झा’ से हुई। जो कि इनके साथ ही उसी प्ले में अभिनय कर रहे थे।

 

दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ीं और बात प्यार तक पहुंचीं। सात वर्षों के लम्बे मधुर संबंधों के बाद आख़िर दोनों ने विवाह बंधन को स्वीकार कर लिया। अब तक के 24 साल के सुखी वैवाहिक जीवन के अनुभव को भी उनहोंने चन्द शब्दों में हमसे सांझा किया। अपने पति के बारे में बताते हुए ‘सेजल’ कहती हैं कि मुनि भी थियेटर और फ़िल्म दोनों करते हैं। उनहोंने छोटे पर्दे पर कई ‘टीवी सीरियल्स’ भी किये हैं जैसे कि ‘क्योंकि सास भी कभी बहु थी’ में बेहद सफल भूमिका के बाद वो लगातार आगे बढ़ते चले गए और इन दिनों भी अपने प्रोजेक्ट्स में बेहद व्यस्त रहते हैं।

‘सेजल शाह’ कहती हैं कि पहले के अभिनय और थियेटर जगत और आज के अभिनय और थियेटर में बहुत अंतर आ गया है। पहले सभी में बहुत समर्पण और सीखने की भावना के साथ-साथ गंभीर अनुशासन भी अनिवार्य था। सफलता का कोई शार्ट कट नहीं था। सफलता के लिए एक बेहद लम्बी यात्रा से गुजरना पड़ता था। जिस दौरान सफ़लता और असफलता दोनों के साथ आगे बढ़ना पड़ता था। जिससे हम बहुत कुछ सीख पाए। जबकि अब तो समय मानो जैसा पूरा ही बदल गया है। नए युवा जो इस क्षेत्र में कदम रख रहे हैं, उनमें संयम नहीं हैं।

आज अधिकाँश उद्दण्ड, अनुशासनहीन दिखते हैं। जो पहली सीढ़ी पर कदम रखे बिना ही सफ़ल हो जाना चाहते हैं। किन्तु अच्छी बात इस पीढ़ी में ये है कि वो अपने काम को ले कर बेहद फ़ोकस और एम्बीशियस है। समय के साथ बहुत से परिवर्तन आये हैं। मीडिया और टीवी जगत में बहुत से नए अवसर पैदा हुए हैं। साथ ही काम करने के बहुत से प्लेटफॉर्म आज उपलब्ध हैं। जो कि पहले उपलब्ध नहीं थे।

‘सेजल शाह’ अपने बारे में बताती हुई कहती हैं कि उनका मनपसद रंग ‘रेड और ऑरेंज’ है। उनको ‘चाइनीज़, इटालियन और थाई फ़ूड बेहद पसंद है। उनकी मनपसंद अभिनेत्री ‘मधुवाला और माधुरी’ है। साथ ही उनके मनपसंद अभिनेता ‘विनोद खन्ना और शाहरुख खान है।

इनको ‘सलवार-कमीज’पहनना बहुत पसंद है। ‘स्वीटज़रलैंड’ यूरोप घूमना पसद करती हैं। ‘सेजल शाह’ कहती हैं कि अभिनय उनकी बचपन की रूचि है और आज भी कर रहीं है और आगे भी यही करती रहेंगी।

‘सेजल शाह’ अपने चाहने वालों और प्रशंसकों को कहती हैं कि वो सब उनसे और उनके काम से सदा यूँ ही प्यार बनाये रखें और सदा अपना ‘फीडबैक’ देते रहें। मैं लोगों से ये चाहती हूँ कि लोग ‘मनोरंजन जगत’ को बढ़ावा देते रहें और अच्छे ‘टैलेंट्स’ की सराहना करते रहें। सभी से प्रार्थना है की अपनी स्थानीय बोली-भाषाओँ में भी नई पीढ़ी को अभिनय आदि के लिए प्रेरित करते रहें। क्योंकि आज के परिवेश में ‘इंग्लिश’ भाषा का अधिपत्य हर ओर देखने को मिल रहा है। ऐसे में युवा इस देखा-देखी में अपनी बोली-भाषा और संस्कृति से कटते जा रहे हैं। इसलिए ये एक गंभीर मुद्दा है सभी को अपनी जड़ों से जुड़े रहना चाहिए।

 

जानिये ‘सेजल शाह’ ने क्या-क्या किया है? ‘सेजल शाह’ बहुत से स्थापित डायरेक्टर्स और एक्टर्स के साथ काम कर चुकी हैं। ‘सेजल शाह’ ने अपने करियर की शुरुआत ‘एक्ट्रेस सरिता जोशी’ के साथ उनके ही प्रोडक्शन हॉउस में की। जिसमें खुद ‘सरिता जोशी’ भी अभिनय कर रही थीं। इसके बाद इन्होंने शफ़ी ईनामदार, शैलेश दवे, सिद्धार्थ रंदेरिया, सुरेश राजदा, परेश रावल आदि के साथ भी काम किया। इन सभी के साथ काम करके ‘सेजल शाह’ को बहुत कुछ सीखने को मिला। ‘सेजल शाह’ के कुछ शानदार थियेटर प्ले’ हैं। ‘सखा-सहियारा’, शिरादचेद, प्रतिबिम्ब ना परछाया, चाल तेवरसे मा जाइये, पारनेला चेइये कोहने कहिये आदि। ‘सेजल शाह’ को गुजराती टीवी धारावाहिक ‘श्री लेखा’ में टाइटल रोल के लिए ‘बेस्ट एक्ट्रेस’ का अवार्ड मिला।

 

थियेटर में भी सराहनीय कार्य के लिए इनको दो अवार्डस प्रादन किये गए। हिंदी में इनका पहला धारावाहिक ‘हसरतें’ था। इसके बाद ‘एक महल हो सपनों का’ ‘हिटलर दीदी’ और अन्य धारावाहिकों को करती चली गयीं। इन्होंने अक्षय कुमार और हिमेश रेशमिया के साथ एक हिंदी फिल्म ‘खिलाडी 786’ में भी काम किया। आज कल ‘सेजल शाह’ एक नए चैनल के लिए एक ‘कॉमेडी सीरियल’ कर रहीं हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Bitnami