नवसंवत के अवसर पर देवता के दर्शन हेतु पहुंचे ईशपुत्र कौलांतक नाथ

0 759

devata bada chamahu kotala - news live now

 

कुल्लू (विकास पांडे):

नव वर्ष विक्रमी संवत के मेले के आयोजन में ‘कौलांतक पीठ’ के ‘पीठाधीश्वर’ ‘महायोगी सत्येंद्र नाथ’ उपस्थित हुए क्षेत्र के सबसे बड़े और प्रमुख ‘देवता बड़ा छमाहूं’ का मिलन ‘योगिनी चवाली’ से होता है। इस भव्य आयोजन को देखने के लिए सैकड़ों लोग ‘कोटला गांव’ में उपस्थित हुए।

‘चवाली माता’ का स्थान ‘कोटला गांव’ के नीचे जंगल के बीच एक ऊंचे झरने के पास स्थित है। जहां सभी लोग आज ‘नववर्ष’ की शुरुआत ‘देवता और योगिनी माता’ के मिलन से करते हैं। सुबह होते ही ‘देवता बड़ा छमाहूं’ अपने सभी ‘हारियानो और कारकूनों’ के साथ भव्य शोभायात्रा करते हुए ‘चवाली माता’ के मंदिर पहुंचते हैं। जहां देवता के ‘गूर’ नें देव भविष्यवाणी की और पूरे पूजा-पाठ व देऊली परंपरा को निभाकर दोपहर ढलते ही कोटला गांव का रुख किया।

 

कोटला गांव में ग्रामीण महिलाओं ने पारंपरिक रीति-रिवाज से वापस लौटे देवता का स्वागत कर अपने परिवारों व क्षेत्र की समृद्धि का आशीर्वाद मांगा। इस अवसर पर गांव के युवाओं ने ‘कोटला गांव’ में Cricket kotala - news live nowक्रिकेट प्रतियोगिता का भी आयोजन किया। ‘महायोगी सत्येंद्र नाथ’ व ‘मां प्रिया भैरवी’ अपने भैरव-भैरवियों के साथ देवता के दर्शन कर खेल-कूद क्रिकेट प्रतियोगिता में ‘मुख्य अतिथि’ के तौर पर उपस्थित हुए।

वहां ‘ईशपुत्र’ ने अपने संबोधन में कहा कि कोटला गांव के बच्चों के लिए खेल का मैदान ही नहीं है। जिसकी सबसे ज्यादा जरूरत है और सरकार को इस की उचित व्यवस्था करनी चाहिए। क्योंकि युवकों ने क्रिकेट प्रतियोगिता के लिए भी सूखे झरने के किनारे खुद ही खुदाई करके एक छोटी सी क्रिकेट पिच तैयार की थी। जोकि अच्छी पिच नहीं थी। ‘ईशपुत्र’ ने युवाओं से आवाहन करते हुए कहा कि वह नशे से दूर रहें और नशे की लत ना पालें। उन्होंने युवाओं को आश्वासन देते हुए कहा कि आपको किसी भी तरह की सहायता देने के लिए वह तैयार हैं बशर्ते आप आत्म अनुशासित रहे। ‘ईशपुत्र’ ने क्रिकेट प्रतियोगिता के लिए टीमों को आर्थिक सहायता भी दी। कोटला गांव में क्रिकेट प्रतियोगिता के आयोजकों ने ‘ईशपुत्र’ व माँ प्रिया भैरवी’ का पारंपरिक तरीके से टोपी व मफलर पहनाकर स्वागत किया।

 

IMG_2154इस अवसर पर ‘न्यूज़ लाइव नाऊ’ के हिमाचल डायरेक्टर ‘हरीश ठाकुर’ ने बल्लेबाजी कर मैच का शुभारंभ किया। ‘मां प्रिया भैरवी’ भी युवाओं का मनोबल बढ़ाने के लिए मैदान में उतर गई। ‘ईशपुत्र’ ने यह भी कहा कि कोटला गांव बहुत तंग होता जा रहा है जो भविष्य में गांव के विकास के लिए बड़ा रोड़ा बन जाएगा। कोटला गांव के विकास का सरकार या पंचायत के पास कोई मॉडल नहीं है। साथ ही खस्ताहाल सड़क की तरफ भी उन्होंने इशारा करते हुए कहा कि सरकारी तंत्र और स्थानीय ठेकेदार जिसे सड़क प्रबंधन का जिम्मा सौंपा गया है उन्हें अपना कार्य पूरी जिम्मेदारी से करना चाहिए।

 

कोटला पंचायत के पूर्व प्रधान महंत डोला सिंह ने कहा कि यह क्षेत्र राजनीतिक उपेक्षा का शिकार रहा है साथ ही युवा वर्ग भी अपने क्षेत्र के विकास की ओर सही से ध्यान नहीं दे पा रहे। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी को नशे से बचाना बेहद जरूरी है। साथ ही ‘लावारिस गऊओं’ के लिए जल्द ही कुछ उचित प्रबंध किया जाना चाहिए और हम इस ओर कदम उठा रहे हैं। क्योंकि लावारिस गऊओं के लिए इस क्षेत्र में कोई ठिकाना नहीं है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वह ‘गऊओं’ को लावारिश ना छोड़ें व गौ सदन बनाने और उसके संचालन में सहायता करें।

 

N 876ईशपुत्र ने महंत डोला सिंह की प्रशंसा करते हुए कहा कि ‘कौलांतक पीठ’ से भी गौ सेवा और गौ सदन के लिए उनको उचित सहायता प्रदान की जाएगी।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Bitnami