हिमाचल के चायवालेे को विधानसभा का टिकट

(एन एल एन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : संजय सूद ने आगे बताया कि वो आर्थिक रूप से बहुत पिछड़े परिवार से आते हैं और साल 1991 से चाय की दुकान चला रहे हैं । उन्होंने कहा, ‘चाय की दुकान चलाने से पहले मैं बस स्टैंड पर न्यूजपेपर बेचता था.’ मालूम हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा की सबसे शक्तिशाली केंद्रीय चुनाव समिति के सदस्य हैं, जिसकी सिफारिश से उम्मीदवारों के नाम तय किए जाते हैं । मालूम हो कि हिमाचल प्रदेश में 12 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए जारी भाजपा उम्मीदवारों की पहली सूची में 19 नये चेहरे शामिल थे । पार्टी ने एक मंत्री सहित 11 विधायकों का टिकट काट दिया था जबकि दो मंत्रियों की सीटों में बदलाव किया। पहली सूची में भाजपा ने पांच महिलाओं को टिकट दिया था जबकि दूसर सूची में एक महिला को उम्मीदवार बनाया गया है ।

इस प्रकार भाजपा ने कुल 68 सीटों में से छह पर महिला उम्मीदवार उतारे हैं । हिमाचल प्रदेश में 12 नवंबर को विधानसभा चुनाव होने हैं । मतगणना आठ दिसंबर को होगी । राज्य विधानसभा में, भाजपा के अभी 43 जबकि कांग्रेस के 22 सदस्य हैं । सदन में दो निर्दलीय सदस्य और माकपा का एक सदस्य है. राज्य में भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला होने की संभावना है ।

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने आज गुरुवार को छह उम्मीदवारों की दूसरी और आखिरी लिस्ट भी जारी कर दी । इससे पहले बुधवार को 62 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की गई थी. पार्टी ने इस बार मंत्री सहित कई अन्य विधायकों के टिकट काटे हैं और बड़ी तादाद में नए चेहरों को मौका दिया गया है । नए चेहरों में सबसे चौंकाने वाला नाम संजय सूद (Sanjay Sood) का रहा, जिन्हें चार बार के विधायक और मंत्री सुरेश भारद्वाज की सीट शिमला अर्बन से मैदान में उतारा गया है । सुरेश भारद्वाज अब कुसुम्पटी सीट से चुनाव लड़ेंगे ।संजय सूद ने एएनआई से कहा कि ‘मैं बहुत आभारी हूं कि भाजपा ने मुझे शिमला अर्बन जैसी हॉट सीट से चुनाव लड़ने के लिए पार्टी का उम्मीदवार बनाया । ये सोचकर ही मैं सातवें आसमान पर हूं, क्योंकि मेरे जैसे छोटे कार्यकर्ता के लिए ये वास्तव में एक बड़ा सम्मान है । मैं कहना चाहूंगा कि भाजपा के लिए काम करना मेरे लिए बहुत अच्छा फैसला रहा ।’

Leave A Reply

Your email address will not be published.