देश में लॉकडाउन बढ़ने के बाद रेलवे ने 3 मई तक यात्री ट्रेनें रद्द कीं।

इससे पहले 21 दिनों के लॉकडाउन के तहत रेलवे ने 14 अप्रैल की मध्य रात्रि तक सभी यात्री सेवाएं रद की थीं।

(एनएलएन मीडिया – न्यूज़ लाइव नाऊ) : ओम तिवारी : राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को बढ़ाने के पीएम के फैसले के बाद रेलवे ने भी बड़ा फैसला लेते हुए सभी यात्री ट्रेने 3 मई तक के लिए रद्द कर दी हैं। रेलवे अधिकारियों ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि हमने 3 मई तक अपनी यात्री रेल सेवा बंद रखने का फैसला किया है। इससे पहले 21 दिनों के लॉकडाउन के तहत रेलवे ने 14 अप्रैल की मध्य रात्रि तक सभी यात्री सेवाएं रद की थीं। रेलवे ने जानकारी दी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा के बाद उन्होंने यात्री ट्रेनों को 3 मई तक रद करने का फैसला लिया। रेल अधिकारी ने कहा कि हमने लॉकडाउन के आगे बढ़ने को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया है। रेल मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी मे बताया गया है कि प्रीमियम ट्रेनों, मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों, पैसेंजर ट्रेनों, उपनगरीय ट्रेनों, कोलकाता मेट्रो रेल, कोंकण रेलवे सहित भारतीय रेल पर सभी यात्री ट्रेन सेवाएं 3 मई की रात 12 बजे तक निलंबित कर दिया गया है। हालांकि इस दौरान मालगाड़ियों को छूट रहेगी। पहले की तरह मालगाड़ियां आगे भी चलती रहेंगी। रेल मंत्रालय की ओर से आधिकारिक जानकारी में बताया गया है कि लोगों की पहले से बुक टिकटों के पूरे पैसे उन्हें वापस किए जाएंगे। इसके साथ कहा गया है कि अब कोई भी टिकट बुकिंग नहीं होगी। देश में फिलहाल हवाई सेवाएं भी 30 अप्रैल तक बंद हैं। रेलवे की ओर से 3 मई तक यात्री ट्रेनें रद करने के फैसले के बाद अब हो सकता है हवाई सेवाओं को भी 3 मई तक रद करने पर कोई फैसला लिया जाए। हालांकि इसको लेकर अभी तक कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। आज देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन को बढ़ाते हुए 3 मई तक इसे जारी रखने का फैसला किया।पीएम मोदी ने कहा कि देश में कोरोना वायरस महामारी के प्रसार को रोकने के लिए यह बहुत जरूरी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ भारत की लड़ाई बहुत मजबूती से आगे बढ़ रही है और देशवासियों के बलिदान के कारण देश को काफी कम नुकसान हुआ है। भारत की कोरोना से जंग में सभी लोग और संस्थाएं अपना सहयोग देंगे तो यह मुश्किल वक्त ख़त्म हो सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.